Loading...

बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जिन्हे चुकंदर खाना पसंद होता है. अक्सर लोग चुकंदर को भोजन के साथ सलाद के रूप खाना पसंद करते हैं. चुकंदर खून बढ़ाने का एक अच्छा माध्यम है. चुकंदर को रोजाना खाने से शरीर में विटामिन ए, बी, बी 1, बी 2, बी 6 व विटामिन सी की पूर्ति हो जाती है. इसके अलावा चुकंदर में अच्छी मात्रा में लौह, विटामिन और खनिज होते हैं जो रक्तवर्धन और शोधन के काम में सहायक होते हैं. चुकंदर में एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाये जाते हैं जो हमारे शरीर को रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है.

आपको विश्वास हो या न हो, लेकिन चुकंदर या बीटरूट एक ऐसा सब्ज़ी है जो पुरूषों की सेक्स पावर को बढ़ा सकता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसका फ़ायदा महिलाओं को नहीं मिलता है।

रिसर्चों के अनुसार जो दवाईयाँ इरेक्टाइल डिसफंक्शन में कामगार साबित होती है ठीक उसी तरह यह जड़ भी काम करता है। इसमें नाइट्रेट होता है जो जैविक (inorganic) रूप से हवा, पानी और फूड्स से मिलता है। जो लोग लो लिबीडो या इरेक्टाइल डिसफंक्शन के समस्या से जुझ रहे हैं, उनके शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड की मात्रा बढ़ने से सेक्चुअल हेल्थ में सुधार आता है।

यह कैसे काम करता है : जब आप चुकंदर खाते हैं तो इसमें जो नाइट्रेट्स होता है वह मुँह में मौजुद बैक्टिरीया के द्वारा नाइट्राइट में बदल जाता है। जब इसको चबाकर निगला जाता है तब यह नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल जाता है, और यह गैस रक्त संचालन को बेहतर बनाता है। नियमित रूप से बीटरूट खाने पर गुप्तांगों की ब्लड कोशिकाएं खुल जाती हैं और रक्त का संचालन बेहतर हो जाता है। इससे इरेक्शन बेहतर तरीके से हो पाता है और आपका सेक्चुअल लाइफ और भी स्पाइसी बन जाता है। चुकंदर का नाइट्रेट सप्लीमेंट सेक्स लाइफ के स्टैमिना को बढ़ाता है।

ब्रीटिश हर्ट फाउन्डेशन के अनुसार, सब्ज़ियों में जो नाइट्रेट्स होता है वह ब्लड-प्रेशर को कम करता है। 2010 में क्वीन मेरी युनिवर्सिटी के अध्ययन में भी यह बात साबित हुआ है। अनुसंधान के अनुसार 500 ग्राम बीटरूट खाने के छह घंटे में ब्लड-प्रेशर कम हो जाता है। शायद आपको पता है कि हाई ब्लड-प्रेशर का भी सेक्स लाइफ पर बुरा प्रभाव पड़ता है। पढ़े- एनीमिया दूर करने का असरदार घरेलू इलाज है बीटरूट

बीटरूट को अपनी डायट में शामिल करने के तरीके :-

कच्चा : आप चुकंदर को पहले अच्छी तरह से धो लें, फिर स्लाइस में काटकर सलाद में या यूं ही खा सकते है। हाँ, इसको अच्छी तरह से चबाकर खायें, इससे हजम शक्ति बढ़ती है।

उबला : अगर इसको कच्चा खाना अच्छा नहीं लगता है तो इसको उबालकर टुकड़ों में काट लें और उस पर नमक और नींबू का रस छिड़ककर स्नैक टाइम में खा सकते हैं। इससे ब्लड-काउन्ट बढ़ता है।

जूस : दो-तीन मध्यम आकार वाले चुकंदर को अच्छी तरह से धोकर, छिलका छुड़ाकर टुकड़ों में काट लें। फिर इनको ब्लेंड करके एक गिलास में इसके रस को छानकर निकाल लें। फिर बिना मीठा दिये इसको पी लें।

चुकंदर के और दुसरे फायदे भी जाने :-

चुकंदर में सोडियम, पोटेशियम, फास्फोरस, कैल्शियम, सल्फर, क्लोरीन, आयोडीन, आयरन, विटामिन-बी1, बी2 और विटामिन-सी अच्छी मात्रा में मौजूद होते हैं.इतने लाभदायक तत्व किसी एक चीज के अंदर मौजूद होना अमृत के समान है.

चुकंदर एनीमिया के रोगियों के लिए बहुत ज्यादा लाभदायक है, क्योंकि चुकंदर में मौजूद आयरन खून की कमी को पूरा करता है और शरीर को मजबूत बनाता है. चुकंदर से हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या बढ़ती है और चुकंदर से हमारे शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है.

चुकंदर में कोलिन नामक पोषक तत्व होता है जो हमारे दिमाग की याद रखने की क्षमता को बढ़ाता है यानी हमारी याददाश्त को मजबूत करता है.चुकंदर हमारे दिमाग में ऑक्सीजन के प्रवाह को बढ़ाता है जिससे हमारा दिमाग ज्यादा सक्रिय हो जाता है और तेज फैसले लेने लगता है.

चुकंदर शुगर के रोगियों के लिए भी बहुत ज्यादा लाभदायक है, क्योंकि चुकंदर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट खून में मौजूद शुगर के स्तर को बढ़ने से रोकते हैं और इस प्रकार हमारे शरीर को शुगर यानी मधुमेह से बचाते हैं.

Beetroot

चुकंदर में मौजूद फोलिक एसिड गर्भवती महिलाओं और उनके गर्भ में पल रहे शिशु के लिए ज्यादा गुणकारी होता है. इसके कारण गर्भ में पल रहे शिशु के “स्पाइनल कॉर्ड” का अच्छी तरह से निर्माण होता है और उसका दिमाग भी विकसित होता है.

चुकंदर हृदय रोगियों के लिए एक दवाई के समान है क्योंकि चुकंदर में पाया जाने वाला नाइट्रेट रस खून के दबाव को कम करता है और खून को जमने से भी रोकता है. इस प्रकार से यह हृदय से जुड़ी हर प्रॉब्लम को दूर करता है.